Tuesday, November 16, 2010

प्रतीक्षा

बचपन से अब तक
प्रतीक्षा ही तो करते आये है
कभी मनचाही वस्तु मिलने की
तो कभी अच्छे अंक आने की |
कभी फर्स्ट आने की
तो कभी मनचाहा जॉब मिलने की
कभी देश भ्रमण की
तो कभी सज्जनो की संगत की |
और अब भी
उम्र के इस मोड पर
प्रतीक्षा ही तो कर रहे है |
खुशहाल जीवन की
संतति के उज्जवल भविष्य की
ब्रद्धों के स्वास्थ्य लाभ की
और अपनी जीवनमुक्ति की |
करते ही रहे है हम
प्रतीक्षा ,प्रतीक्षा और
अनवरत प्रतीक्षा
कभी न खत्म होने वाली प्रतीक्षा
और अब
कुछ ही पलो में
खत्म हो जायेगी ये प्रतीक्षा
क्योंकि जब सब कुछ
समाप्त होने कों है
तो कैसी प्रतीक्षा
और क्यों प्रतीक्षा |
ये सब तो जीवन रहने तक है
प्रतीक्षा ,प्रतीक्षा और मात्र प्रतीक्षा |

6 comments:

  1. प्रतीक्षा वो सिलसिला है जो खत्म नही होता
    जीवन से पहले और मरने के बाद भी चलता है
    एक इंतजार अपने साथ दूसरे इंतजार को लाता है
    प्रतीक्षा वो सिलसिला है जो खत्म नही होता
    प्रतीक्षा वो इच्छा है जो सासों के साथ चलती है
    वक्त के साथ बस अपने रूप बदलती रहती है
    प्रतीक्षा वो सिलसिला है जो खत्म नही होता

    हमे भी आपके अगले ब्लाग की प्ततीक्षा रहेगी ताकि हमारा आपका सिलसिला बना रहे

    ReplyDelete
  2. जब तक साँस है तब तक आश है|

    ReplyDelete
  3. बहुत सच्ची बात कही है आपने ! ना जीवन में कभी प्रतीक्षा का अंत होता है ना ही कभी आशा और विश्वास मंद पड़ते हैं ! यही जिजीविषा हमें घनघोर निराशा के पलों में भी जिलाए रखती है ! बहुत सशक्त अभिव्यक्ति ! बधाई एवं आभार !

    ReplyDelete
  4. Beena ji, kavita achchi hai. magar aapse anurodh hai k pratiksha karne k bajaye aap sirf dekhne ki koshish kare. Kyoki pratiksha karna to bara dushkar hota hai. ROMY SOOD

    ReplyDelete